Skip to main content
inner banner

केंद्रीय आर्थिक आसूचना ब्यूरो (सीईआईबी) का ढांचा

  1. केंद्रीय आर्थिक आसूचना ब्यूरो, आर्थिक आसूचना नोडल एजेंसी है। इसका गठन 1985 में वित्त मंत्रालय के अंतर्गत आर्थिक आसूचना और प्रवर्तन गतिविधियों को समन्वित और सुदृढ़ करने के लिए हुआ है।
  2. ब्यूरो का मुखिया महानिदेशक होता है जिनकी सहायता के लिए दो अपर महानिदेशक (संयुक्त सचिव के समकक्ष), संयुक्त सचिव (कॉफेपोसा), अपर/संयुक्त निदेशक (उप सचिव/निदेशक के समकक्ष), अवर सचिव, उप निदेशक (अवर सचिव के समकक्ष) और अन्य स्टाफ होता है। ब्यूरो की 113 अधिकारियों एवं कर्मचारियों की मंजूरीकृत संख्या है। वर्तमान में कार्यरत अधिकारियों/कर्मचारियों की संख्या 67 है।
  3. मौजूदा चार्टर के संबंध में सीईआईबी निम्नवत के रूप में कार्य करता है। 
    • आर्थिक आसूचना परिषद (ईआईसी) हेतु सचिवालय;
    • आर्थिक आसूचना की समन्वित कार्रवाई और संग्रह हेतु विभिन्न एजेंसियों के बीच समन्वय (ईसीओआईएनटी) और
    • केन्द्र सरकार के स्तर पर कॉफेपोसा अधिनियम, 1974 के प्रशासित करता है।
  4. अपने अधिदेश के भाग के रूप में, सीईआईबी:
    • आर्थिक अपराधियों और अपराधों के डेटा आधार का रखरखाव करता है
    • थिंक टैंक के रूप में कार्य करता है और वृहत स्तर की आर्थिक गतिविधियों का अध्ययन तथा विश्लेषण करता है।
    • प्रादेशिक आर्थिक आसूचना परिषदों के काम-काज का निरीक्षण व निगरानी करता है जो कि क्षेत्रीय स्तर के समन्वयकारी निकाय होते हैं और जिनमें आर्थिक अपराधों से निपटने वाली विभिन्न केन्द्रीय एवं राज्य प्रवर्तन तथा जांच संबंधी एजेंसियों के प्रतिनिधि शामिल होते हैं।
    • राजस्व विभाग के और आरईआईसी की सदस्य एजेंसियों के अधिकारियों हेतु प्रमुख प्रशिक्षण संस्थानों में प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करता है।
    • वैश्विक प्रविष्टि कार्यक्रम (जीईपी) के तहत आवेदनों की विधिक्षा करता है।
  5. ‘हमारे बारे में’कार्य के आबंटन को विस्तृत रूप में बताया गया है जहां प्रत्येक प्रभाग के कार्य क्षेत्र के बारे में बताया गया है।